शुक्रवार, 4 फ़रवरी 2011

रेगिंग में आगे

उत्तर प्रदेश के कालेजों से रैगिंग की सबसे ज्यादा शिकायतें आई हैं। मानव संसाधन मन्त्रालय द्वारा 20 जून 2009 को रैगिंग की शिकायत दर्ज करने के लिए एक हेल्पलाईन शुरू की गई थी। सूचना के अधिकार के तहत सहारनपुर निवासी कुश कालरा द्वारा निकाली जानकारी से पता चलता है कि कुल मिलाकर 658 शिकायतें दर्ज हुई हैं इसमें से सबसे ज्यादा 131 मामले उत्तर प्रदेश से हैं। दूसरे स्थान पर पश्चिम बंगाल से 86 शिकायतें हैं। इसके बाद मध्य प्रदेश (65), उड़ीसा (60) और कर्नाटक (31) आते हैं। मणिपुर शायद सबसे दूरस्त है या फिर वहां रैगिंग की प्रवृत्ति कम है। वहां से केवल एक शिकायत दर्ज हुई। 
प्राप्त सूचना से यह भी पता चलता है कि सबसे ज्यादा (333) रैगिंग की शिकायतें इंजीनियरिंग कालेजों से मिलीं। मेडिकल कालेजों से 71 शिकायतें मिलीं। पोलिटेकनिक कालेजों से 59 शिकायतें मिलीं।

1 टिप्पणी:

pankajsinghaisagar@gmail.com ने कहा…

मै पंकज सिंघई सागर म.प्र.मेल आई डी (pankajsinghaisagar@gmail.com )मेरा मोबा-: नंबर (09424492711)लेन्ड लाईन नंबर.(07582-248060) है ! मेने सागर जिले मै वर्ष 2011 नै आरटीआई 2005 के तहत मांगी जानकारीयो से उन पर हुई कार्यवाहीया 1.शिक्षा का अधिकार कानून के तहत 25 ;\;निजी स्कूलो मै गरीब बच्चो को आरक्षण मिले 03\03\2011 (2)300 करोड की शासकीय भूमि जो भाग्योदय अस्पताल के सामने शहर के मध्य स्थित है पर आपत्ति .(3) सागर की किन्नर महापौर के खिलाफ 3 तीन करोड की अवैध संपत्ति के खिलाफ आय-कर अन्वेष्ण मै रिपोर्ट सहित तकरीबन 50 शिकायते की ! मेरे ऊपर दिनांक 30\11 \2011 को संगठित होकर हमला किया गया व भू-माफिया राजनैतिक की साजिश के तहत झूठा प्रकरण धारा 327 आरोप शराब पीन(200 पैसे) रुपये की मांग् दर्ज मुकादमा जेल यात्रा कितनी यथाचित है!